बुभुक्षिता लोमशा भूखी लोमड़ी

पल्लवी – पूजे ! अहम् अद्य एकां लोमशाम् अपश्यम् । पूजा ! मैने आज एक लोमड़ी देखी। पूजाः पल्लवि ! त्वं तां लोमशां कुत्र अपश्यः ? पल्लवी तुमने लोमड़ी कहाँ देखी? पल्लवी पूजे ! अहं वने अपश्यम् । पूजा ! मैने लोमड़ी जंगल में देखी पूजा: पल्लवि ! सा लोमशा अति बुभुक्षिता आसीत् । पल्लवी … Read more

मनोहरम् अद्यानम्

मनोहरम् अद्यानम् गोपालः – कृष्ण ! त्वं प्रातः काले कुत्र गच्छसि ? कृष्ण! तुम सुबह-सुबह कहाँ जाते हो? कृष्णः – गोपाल ! अहं प्रातः काले उद्यानं प्रति गच्छामि ।गोपाल में सुबह-सुबह बगीचे की तरफ जाता हूँ गोपालः कृष्ण ! उद्याने कति वृक्षाः सन्ति ? बगीचे में कितने वृक्ष हैं। कृष्णः गोपाल ! उद्याने अनेके वृक्षाः … Read more

परिजनसंवादः

परिजन संवादः शीला: सखि ! तव किं नाम अस्ति ? सहेली! तुम्हारा नाम क्या है? विमला: मम नाम विमला अस्ति । सखि ! तव किं नाम अस्ति ? मेरा नाम विमला है । सहेली! तुम्हारा नाम क्या है? सुशीला: मम नाम सुशीला अस्ति । मेरा नाम सुशीला है। विमलाः त्वं कुत्र वससि ? तुम कहाँ … Read more

छात्रालाप

Chhatralap

शब्दार्थ भोः मित्र – हे मित्र त्वं – तुम कक्षायां – कक्षा में पठामि- पढ़ता हूँ पठसि-पढ़ते हो पठन्ति – पढ़ते हैं। अहं-मै कस्यां कक्षायाम-किस कक्षा में ? आचार्यास्य-शिक्षक का का, कति-कितना चत्वांरिंशत -चालीस पठसि पढ़ते हो पच्चाशत- पचास छात्रालाप वासुदेवः भोः मित्र! त्वं कस्यां कक्षायां पठसि? हे मित्र! तुम किस कक्षा में पढ़ते हो? … Read more

संवादः (वार्तालाप/बातचीत )

स्तुति शुक्लां ब्रम्ह-विचार-सार परमामाद्यां जगद्व्यापिनीम्, वीणपुस्तक-धरिणीमभयदां, जाड्यान्धकारापहाम्। हस्तेस्फाटिकमालिकां विदधतीं, पद्मासने संस्थिताम्, वन्दे तां परमेश्वरीं भगवतीं, बुद्धिप्रदां शारदाम्।। हिन्दी अनुवाद :- श्वेत वर्ण वाल, ब्रम्ह विचार-सार रूपी परम तत्व से युक्त, आदिरूपा, संसार में व्याप्त रहने वाली, वीणा और पुस्तक धारण करने वाली, अभय प्रदान करने वाली, जड़ता (अज्ञानता) रूपी अंधकार को दूर करने वाली, हाथों … Read more